दीपावली जाने कब से बस दिवाली हो गयी
पहले जैसी खुशियों से अब खाली हो गयी
कभी था ये रिश्तो के साथ का त्यौहार निराला
अब तो बस एक रस्म ये निराली हो गयी !!!

Advertisements